UP पंचायत चुनाव: पीएचडी, एमबीबीएस और एमटेक वाले भी कूदे

Politics
https://www.dna24.in

एलएलबी, एलएलएम, पीएचडी व एमबीबीएस से लेकर एमटेक, बीटेक पास भी ग्रामीण राजनीति के दंगल में कूद चुके हैं। प्रधानी, बीडीसी और जिला पंचायत सदस्य के सभी उम्मीदवारों में केवल छह प्रतिशत प्रत्याशी ही निरक्षर हैं।

घाटमपुर के भीतरगांव ब्लॉक में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में इस बार शिक्षित उम्मीदवारों की संख्या अधिक है। इस ब्लॉक में 77 ग्राम पंचायतें, 89 क्षेत्र पंचायतें और चार जिला पंचायतें हैं। प्रधान के लिए 577, बीडीसी के लिए 433 और जिला पंचायत सदस्य के लिए 58 उम्मीदवार जोर आजमाइश कर रहे हैं। 40 प्रतिशत प्रत्याशी हाईस्कूल पास हैं। 15 प्रतिशत स्नातक तो पांच प्रतिशत परास्नातक तक शिक्षित हैं। बाकी 34 प्रतिशत प्रत्याशी कक्षा पांच तो कक्षा आठ पास हैं।

कमालपुर गांव निवासी अतुल कुमार सचान पढ़े लिखे उम्मीदवारों में सबसे आगे हैं। प्रधानी का चुनाव लड़ने वाले अतुल एमएससी, एमएड, एमफिल व पीएचडी समेत अन्य पढ़ाई करने के बाद अब एलएलबी की पढ़ाई कर रहे हैं। अतुल बताते हैं कि ग्रामीण राजनीति से हटकर उनका मकसद गांव में अधिक से अधिक योजनाओं को लाकर विकास करना है।

पसेमा गांव निवासी महेंद्र सिंह यादव प्रधान पद के उम्मीदवार हैं। उच्च शिक्षा लेने के बाद एलएलबी की पढ़ाई करने वाले महेंद्र गांव के उम्रदराज प्रत्याशी भी हैं। उनका कहना है कि परिवर्तन लाना है तो उच्च शिक्षित लोगों को ग्रामीण राजनीति में आना होगा। वकालत करने वाले प्रत्याशी महेंद्र सिंह यादव फिलहाल गांव में खेती किसानी में भी खासी रुचि रखते हैं।

https://www.dna24.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *