नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन, किसानों और पुलिस में टकराव, बैरिकेड तोड़कर चंडीगढ़ में घुसे

India Travel
https://www.dna24.in

कृषि कानून रद्द कराने की मांग के लिए शुरू हुए किसान आंदोलन को सात महीने पूरे हो गए हैं।केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे किसान संगठन आज राज्यपालों को ज्ञापन सौंपने के लिए राजभवनों का घेराव कर रहे हैं। इस बीच मोहाली व पंचकूला में किसानों और पुलिस में टकराव की खबर है। शनिवार को चंडीगढ़ में 32 किसान संगठनों ने राजभवन की तरफ कूच किया। दोपहर करीब पौने एक बजे किसान पंचकूला के नाडा साहिब गुरुद्वारा से रवाना हुए। वहीं मोहाली से किसानों ने अंब साहिब से यादविंदर चौक की तरफ कूच किया। इस दौरान किसान नेता रुलदू सिंह ने कहा कि आज के दिन इंदिरा गांधी की तरफ से इमरजेंसी लगाई गई थी। उसे याद करते हुए यह मोर्चा निकाला जा रहा है।प्रदर्शनकारी किसानों ने पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेडस तोड़ दिए और आगे बढ़ गए। बता दें कि दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के विरोध प्रदर्शन के सात महीने पूरे हो गए हैं। उऩ्होंने दिल्ली और हरियाणा के बीच सिंघू बॉर्डर पर अपना आंदोलन शुरू किया था। राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर अन्य दो विरोध स्थल टिकरी और गाजीपुर हैं। इस दौरान दिल्ली-गाजियाबाद की सीमा यूपी गेट पर किसानों का ट्रैक्टर मार्च भी होगा।

– समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार दिल्ली पुलिस ने शनिवार को कहा कि भारतीय किसान यूनियन (BKU) के नेता राकेश टिकैत की गिरफ्तारी की खबरें फर्जी हैं। पुलिस ने यह भी कहा कि इस तरह की फर्जी खबरें फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

– पंजाब: किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी ने कृषि कानूनों के खिलाफ अमृतसर में जिला प्रशासनिक परिसर के बाहर प्रदर्शन किया। किसान मज़दूर संघर्ष कमेटी के महासचिव ने बताया, ‘हम आज पंजाब के जिला हेडक्वार्टरों में रोष मार्च करेंगे और राज्यपाल, राष्ट्रपति के नाम का मांग पत्र डीसी दफ़्तर को देंगे।’

https://www.dna24.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *