कानून व्यवस्था के मुद्दे पर हाथरस, मिर्जापुर, शाहजहांपुर आदि की घटनाओं के बारे में मुख्यमंत्री ने सदन को किया गुमराह- अजय कुमार लल्लू

Politics
https://www.dna24.in

लखनऊ, 24 फरवरी: उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा है कि आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए जिन तथ्यों का सहारा लिया वह सब झूठ का पुलिन्दा और सदन को गुमराह करने वाला तथा सत्य से परे है। उन्होने कहा कि जिस प्रकार पीपीई किट घोटाले और कोरोना काल के दौरान प्रभावी मजदूरों के साथ उ0प्र0 में हुए दुवर्यवहार और पैदल सैंकड़ों किलोमीटर चलने की घटना जिसमें तमाम लोगों की जानें गयीं और मानवता शर्मशार हुई थी जो प्रदेश सरकार की असंवेदनशीलता की पराकाष्ठा रही। आज जिस बेशर्मी के साथ झूठे तथ्यों के साथ आत्मप्रसंशात्मक जवाब दिया है उससे हमारे उन प्रवासी मजदूरों और उस पीड़ा से गुजरे लाखों की संख्या में प्रदेशवासियों का अपमान किया है और उनकी पीड़ा का मजाक उड़ाया है। माननीय मुख्यमंत्री ने राज्यपाल के अभिभाषण के जवाब में जितनी भी बातें रखीं वह न सिर्फ तथ्यों से परे थीं बल्कि सदन को गुमराह करने वाला था।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी से योगी सरकार पूरी तरह भयभीत है क्योंकि वह जिस दृढ़ता के साथ जनता से संवाद कर रही हैं और जनसरोकारों से अपने आपको जोड़ रही हैं, चाहे किसान पंचायत हो या निषाद समुदाय के सरकारी उत्पीड़न की लड़ाई, या पूर्व में हाथरस, उम्भा, उन्नाव, शाहजहांपुर आदि तमाम स्थानों पर पीड़ित परिवारों के साथ प्रियंका का खड़ा होना और संघर्ष करने पर योगी सरकार की बौखलाहट आज सदन में दिखाई पड़ी जब मुख्यमंत्री ने कांग्रेस के जनप्रिय नेता राहुल गांधी के बारे में झूठे तथ्यों को पेश किया जो उन्होने कहा ही नहीं। यह मुख्यमंत्री की हताशा का परिचायक है।

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि उ0प्र0 के मुख्यमंत्री द्वारा राज्यपाल अभिभाषण के जवाब में गेहूं, धान, मक्का की खरीद के बारे में सदन में जो तथ्य बढ़ाचढ़ाकर प्रस्तुत किये गये हैं वह सत्य से बिल्कुल परे हैं और हमारे प्रदेश के अन्नदाता किसानों का अपमान किया है। सरकार ने जिन आंकड़ों को पेश किया है वह भ्रामक और पूरी तरह झूठे हैं। क्योंकि किसानों को औने-पौने दामों पर अपनी उपज को बेंचने के लिए विवश होना पड़ा है इसका उदाहरण कांग्रेस पार्टी को और आम जनता को किसान पंचायतों में देखने को मिल रहा है कि किसान किस नाराजगी के साथ तथ्यों के साथ सरकार की विफलताओं का विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था और सिलसिलेवार घटनाओं उदाहरण स्वरूप हाथरस, मिर्जापुर, शाहजहांपुर, उन्नाव आदि के बारे में जो तथ्य माननीय मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार की आत्मप्रसंशा में सदन में रखे वह पूरी तरीके से गलत हैं और इन घटनाओं को झुठलाने का प्रयास है। जबकि सच यह है कि कानून व्यवस्था के मुद्दे पर यह सरकार पूरी तरह असफल साबित हुई है और हर घटना में सरकार पीड़िता के पक्ष में न होकर आरोपियों को बचाने में लगी रही। मीडिया और कांग्रेस के दबाव के चलते तमाम घटनाओं हाथरस, उन्नाव, मिर्जापुर, शाहजहांपुर आदि में पीड़िता को न्याय मिलने में मदद हो सकी। महिला सुरक्षा के बारे में सरकार के पहले शुरू किये गये एंटी रोमियो, मिशन शक्ति का कोई प्रभाव नहीं दिखाई पड़ा। उल्टे घटनाएं उसी गति से घट रही हैं जैसे योगी सरकार बनने के समय शुरू हुई थीं। महिला सुरक्षा के मामले में यह सरकार पूरी तरीके से फिसड्डी साबित हुई है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि बुन्देलखण्ड में मेरे द्वारा सिंचाई की समस्या और पेयजल की समस्या जिसके चलते बुन्देलखण्ड की जनता सबसे अधिक परेशान हैं उसके निस्तारण हेतु समयबद्ध सीमा बताये जाने की मांग की गयी और आत्महत्या पर सवाल उठाया गया। किसानों द्वारा सरकार की किसान विरोधी नीतियों, कर्ज के बोझ से दबे होने के चलते की गयी आत्महत्या को जिस बेशर्मी के साथ सरकार ने नकारा वह हमारे अन्नदाता और बुन्देलखण्ड की जनता का अपमान है। कांग्रेस पार्टी ने पूरे तथ्यों के साथ सदन में पूरे प्रकरण को रखा था आगे भी अपने प्रदेश के अन्नदाता किसानों की आवाज को सड़क से लेकर सदन तक इसी प्रकार दृढ़ता के साथ उठाती रहेगी। सरकार की बेशर्मी से हम डरने वाले नहीं हैं।

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि मुख्यमंत्री अपने पूरे जवाब में या तो झूठी आत्मप्रसंशा करते रहे या अपने जवाब का अधिकतम हिस्सा विपक्ष पर मिथ्या आरोप लगाने में और अपमानित करने में लगाया। हमनें सदन में पूरी दृढ़ता के साथ सरकार के झूठ का विरोध किया और जहां दूसरी विपक्षी पार्टियों के लोग मुख्यमंत्री के झूठे आरोपों को सुनते रहे वहीं हमने सदन में सरकार को यह मानने के लिए विवश किया कि कांग्रेस पार्टी ही प्रदेश का मुख्य विपक्षी दल है जो सरकार को हर जनमुद्दे पर सड़क से सदन तक न केवल जवाब देगा बल्कि पूरी मजबूती के साथ लड़ेगी। यह बात स्वयं मुख्यमंत्री जी को सदन में स्वीकार करना पड़ा।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि राज्यपाल का अभिभाषण जो सरकार का दस्तावेज होता है वह पूरी तरीके से दिशाहीन और झूठ का पुलिन्दा था। इसमें 65 प्रतिशत वह लोग जो एक वर्ष से अपने बच्चों की फीस नहीं जमा कर पा रहे हैं। 3 लाख 60 हजार वित्तविहीन शिक्षक जो वर्षों से वेतन नहीं पा रहे हैं या आधे में गुजारा कर रहे हैं। 400 रूपये प्रति कुन्दल गन्ना खरीदने का वादा करके सत्त में आयी भाजपा अपने अंतिम कार्यकाल तक गन्ने के मूल्य में एक रूपये बढ़ोत्तरी न करना, 15 दिन में बकाये भुगतान का वादा करने के बाद भी वर्षो। बीत रहा है 15हजार करोड़ रूपये से ऊपर का बकाया भुगतान न करने और तमाम लम्बी-लम्बी घोषणाओं के बाद भी घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान की खरीद न होना यह भाजपा की भयंकर वादाखिलाफी की श्रेणी में आता है। इसी के साथ वह लोग जिनकी नौकरियां चली गयी हैं, रोजगार-धन्धे चैपट हो गये हैं। भीषण मंहगाई, डीजल, पेट्रोल के बढ़ते दामों और रसोईगैस न खरीद पाने मजबूर जनता के लिए इस अभिभाषण में कोई भी सकारात्मक संदेश नहीं दिखाई पड़ा। ऐसे में कांग्रेस पार्टी ने निर्णय लिया है कि वह योगी सरकार के झूठ और वादाखिलाफी का पर्दाफाश करने के लिए उत्तर प्रदेश की जनता के हित में हर जन मुद्दे को लेकर सड़क से सदन तक संघर्ष करती रहेगी।

https://www.dna24.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *